कांग्रेस भिखमंगी ,सपा नंगी ,बसपा विजेता , भारत का सबसे बड़ा चुनावी सर्वे ,चालीस लाख के सेम्पल साइज़ का सर्वे
| 29 Jan 2017

जन उदय : कांग्रेस उन अय्याश जमींदारों में है जो जनता को खून चूस चूस कर अपनी अय्याशिया करते है और सत्ता के जाने के बाद कर्जा ले ले कर अपनी शान शौकत बनाए रखना चाहते है ताकि लोगो को यह दिखा सके की वो आज भी शक्तिशाली है आज भी समृद्ध है लेकिन असल में इनके घर के बर्तन तक बिक चुके होते है और इनका चरित्र इतना गिर जाता है की दुसरो के घरो में जा कर चोरी करते है भीख मांगते है

यही हाल रहा है कांग्रेस कि आज इनकी इतनी गिरी हुई हालत हो गई है की एक क्षेत्रीय पार्टी समाजवादी पार्टी से समझोता करने के लिए खुद राहुल गाँधी को जाना पड़ा क्योकि उत्तर प्रदेश में इनके पास कोई चेहरा ही नहीं रहा और शीला दिक्सित को बलि का बकरा बना कर भेज दिया

इधर सपा का भी वही हाल है सपा की गुंडागर्दी , भ्रष्टाचार दंगे जैसी घटनाओं ने उत्तर प्रदेश की जनता को इतना दुखी कर दिया की लोग दुआए मांग रहे थे की कब चुनाव हो कब इनको बाहर का रास्ता दिखाया जाए . हालांकि मुलायम ने शिवपाल प्रकरण के माध्यम से अखिलेश को एक साफ़ सुथरा और इमानदार नेता की छवि देने की कोशिस की है लेकिन ये बात सब जानते है की जीतते के साथ ही फिर दलितों के घर जलेंगे , फिर दंगे होंगे
जन उदय नें देश का सबसे बड़ा चुनावी सर्वे किया है जिसमे चालीस लाख का सेम्पल साइज़ लिया है और इसके रिजल्ट बड़े ही चोंकाने वाले है

जब लोगो से पुछा गया की क्या वो अखिलेश को इमानदार मानते है तो २३ % लोगो ने हाँ का जवाब दिया जबकि ६५ % लोगो ने कहा नहीं केवल दो % लोगो ने कोई जवाब नहीं दिया

जब लोगो से ये पूछा गया की क्या प्रदेश में महिलाए सरक्षित है तो रिजल्ट और भी हैरान करने वाला था ९९ % महिलाओं ने कहा नहीं बल्कि माहौल हमेशा डराने वाला रहता है

८९ % लोगो ने सत्ता में दलाव की बात मानी और कहा वो बदलाव के पक्ष में है तो उसके बदले में सपा –कांग्रेस को नहीं चाहते भाजपा को तो बिलकुल नहीं चाहते यानी बसपा को ही सबसे बड़ा विकल्प मानते है क्योकि भाजपा सपा और कांग्रेस तीनो गुंडागर्दी , दंगो में माहिर है और इनका एक ही चेहरा है

सर्वे में पूछा गया की क्या मोदी की नीतिया देश के लिए सही है तो ९३ % लोगो ने मोदी और भाजपा के शासन को एक दुखद घटना बताया और देश पर संकट का समया कहा

सर्वे के आधार पर बसपा को ३५०-३८५ सीट मिलने की सम्भावना है भाजपा को को दंगे और भाजपा की गलत नीतिया , आरक्षण विरोधी , दोगली निति , देश के लिए अशुभ माना और ५-१२ सीट मिलती दिखाई दे रही है
इसलिए कांग्रेस और सपा के गठजोड़ के बावजूद सरकार नहीं बना पायंगे और दोनों का भविष्य भी खतरे में दिखाई दे रहा है

सपा की आंतरिक कलह कम से कम ७०-९० सीट पर सपा को हराएगी