जानिये कैसे सपा का सफाया होगा यु पी से , पुत्र को महान दिखाने का ड्रामा और भाई से गद्दारी काम न आएगी
| 12 Feb 2017

जन उदय : काल्पनिक ही सही लेकिन महाभारत के धृतराष्ट्र की बात सबको याद है की कैसे उसने पुत्रमोह में पुरे साम्राज्य का विनाश कर दिया .

लेकिन अगर बात हम उत्तर प्रदेश के करे तो यहाँ पर बर्बाद करने के लिए तो कुछ नहीं हां अपने षड्यंत्र से अपने पुत्र का फायदा किया और उसको महान बना कर पेश आकर दिया

खैर अब मुलायम के षड्यंत्र को समझते है को समझते है . अखिलेश मुलायम का बेटा है और मुलायम की दिली इच्छा है की अखिलेश समाजवादी पार्टी को आगे लेकर जाए , चूँकि अखिलेश को कोई राजनैतिक ज्ञान नहीं है और न ही अनुभव है और इसी बीच शिवपाल के पास मुलायम का भाई होते हुए दुनियाभर के राज और ताकत है जिसमे गुंडा ताकत , और अन्य लीडर है अगर शिवपाल और अखिलेश को आमने सामने कर दिया जाए तो यकीनन अखिलेश की हार होगी और अखिलेश का राजनैतिक जीवन खतरे में पढ़ जाएगा सो यह जरूरी हो गया था की अखिलेश को कुछ समय के लिए अकेले छोड़ा जाए ताकि वह खुद गिरे और खुद उठे और उसे समझ आ जाए की आखिर यु पी और समाजवादी की राजनीती है क्या .. बर्बाद तो अखिलेश को होने नहीं दिया जाएगा क्योकि अंत में पिता तो है न अखिलेश को संभालने के लिए .. और सफल रहा तो मुलायम को ख़ुशी ही होगी और इस बीच मुलायम शिवपाल जैसे गुंडे और उसके समर्थको को ठिकाने लगा देगा , इससे पहले भी मुलायम ने बड़े बड़े गैंग्स्टर को ठिकाने लगाया है जो भाजपा और कांग्रेस के समर्थन से चलते थे , ( यु पी के महेंद्र फौजी , सतबीर गुर्जर और अन्य सबको याद होंगे )

अब इस विद्रोह के बाद मुलायम ने और क्या क्या झूटी तस्वीरे यानी इमेज अखिलेश की बनाने की कोशिश की है , पहला कि अखिलेश पिता का प्यादा नहीं है बल्कि एक स्ट्रोंग राजनेता है , दूसरा कि अखिलेश गुंडे और भ्र्स्ताचारियो को नहीं चाहता , तीसरा कि अखिलेश न्यायवादी नेता है . कि अखिलेश साफ़ छवि का आदमी है
अब इन छवि के सहारे मुलायम ने यु पी की जनता को एक बार बेवकूफ बनाना चाहता है और चुनाव जितना चाहता है वह शायद नहीं हो पायगा

अब सवाल यह है की चुनाव के वक्त यह नोटंकी क्यों ?? तो साफ़ बात है इस वक्त यह सब कुछ होने से समाजवादी पार्टी को कुछ नहीं खोना क्योकि यह बात तो तय है की इस बार समाजवादी नहीं बहुजन समाज पार्टी चुनाव में जीतेगी और पांच साल का समय मुलायम के लिए काफी है और अगर इस बीच मुलायम को कुछ हो भी जाता है तो भी मुलायम अखिलेश के लिए इतना कर देंगे की अखिलेश को शिवपाल जैसे गुंडों की शरण में नहीं आना पढ़ेगा .... देखभाल के लिए राम गोपाल को छोड़ दिया है पीछे

खैर ब्राह्मणवादी मीडिया के के कूकर पत्रकार जो अब पैसे खा खा के अखिलेश को महान बता रहे है और भाजपा और सपा में टक्कर दिखा रहे है वो लोग ये भूल रहे है की यु पी में माया की सर्वजन हिताय निति बहुत काम आने वाली है और मायावती को अपार सफलता मिलेगी , हाँ अंत तक जातिवादी मानसिकता के पत्रकार जनता को भ्रमित करना नहीं छोड़ेंगे





v