दलितों और मुसलमानों को मुर्ख बनाती मोदी की कल्याणकारी योजनाये
| 03 Mar 2017

जन उदय : जिस तरह भाजपा ने एक इवेंट मैनेजमेंट के जरिये मोदी का समां बांधा और लोगो को एक नए तरीके के राष्ट्रवाद में फंसाया उस तरह की गोली भक्त लोग अभी तक चूस रहे है मोदी ने सबसे पहले मेक इन इंडिया का नारा दिया यह सच में एक बहुत अच्छा कदम हो सकता था अगर इसको लागू कर दिया जाता क्योकि चीन से आने वाले उत्पाद काफी कम हो जाते और युवाओं और बेरोजगारों को काफी रोजगार मिलता लेकिन मोदी के सारे वादे और इरादे केवल भाषण बन कर रह गए बल्कि अब तो यह होने लगा है है की मेट्रो कोच देश में बनाने के लिए मोदी साहेब ने नागपुर में चीन की फैक्ट्री ही लगवा ली और जिस तरह के राष्ट्रवाद के प्रतीक को लेकरं पटेल के नाम को इस्तेमाल क्या उसी पटेल की मूर्ति भी अब चीन में ही बन रही है .. थोथे वादे और थोथा मोदी ..
इसके अलावा मोदी ने अपने पद की गरिमा को जिस तरह गिराया है वो भी बहुत शर्मनाक है मोदी की भाषा पर उठने वाले सवाल एक दम सही साबित हो रहे है , मोदी के बोल , चौराहे पर खड़ा कर कर मुझे जूते मार लेना , आदि आदि

अभी ठीक यु पी चुनाव से पहले मोदी ने मुस्लिम सिख यानी अल्पसंख्यक लोगो के लिए योजनाये लागू की है अगर इन योजनाओं की परत दर परत जांच की जाए तो अन्य कल्याणकारी योजनाओं की तरह ये भी सिर्फ दिखावे की है
छात्रवृति योजना जिसमे परिवार की आय एक लाख रूपये सालाना से कम होनी चाहिए ये योजना प्राथमिक शिक्षा के लिए है इसके अलावा शिक्षा के लिए मिलने वाली छात्रवृति में परिवार की आय छ लाख रूपये सालाना से कम होनी चाहिए

स्टार्ट अप योजना जो गरीबो दलितों के लिए है जिसमे पचास लाख तक का धन दिया जाता है इसी तरह एक फण्ड सरकार ने बनाया है जिसमे दलितों को अपना व्यापार करने के लिए साहयता दी जाती है
यह योजना सामाजिक न्याय मंत्रालय के अंतर्गत है

अब इन योजनाओं की पोल खोल देते है आप जाएये और इस सोच के साथ जाइए की आपको यह फण्ड लेना है तो आपसे सबसे पहले यह सवाल की आपके पास गिरवी रखने के लिए क्या है ?? अंग्रेजी भाषा में इसे कोल्लेक्ट्रल सिक्यूरिटी कहते है और अगर आप कोई manufacturing यूनिट लगाना चाहते है को आपके पास किसी इंडस्ट्रियल एरिया में एक हजार गज का प्लाट है ???

आब आप इनसे पूछिए की अगर मेरे पास इंडस्ट्रियल एरिया में एक हजार गज का प्लाट होगा तो क्या तुमसे मदद के लिए आऊंगा ?? और कोलेटरल सिक्यूरिटी देने पर कोई भी बैंक हंस कर लोन दे देगा तो आप क्या कर रहे है उसमे ??? तो सरकारी लोग जवाब देते है तो जाओ वही से ले लो