यु पी चुनाव लोकतंत्र पर सबसे बड़ा आतंकी हमला : दलित ओ बे सी का प्रतिनिधित्व खत्म करने के लिए रचा गया षड्यंत्र
| 11 Mar 2017

जन उदय : यु पी चुनाव के रिजल्ट ने सबको चोंका दिया है वह भी इसलिए जिस तरह चुनाव का रसुल्ट आया है उसने एक इतिहासिक जीत हुई है बी जे पी की जो किसी भी एंगल से हो ही नहीं सकती थी इस चुनाव में बी जे पी को ३२० से ज्यादा सीट मिली है जो बिना किसी ई वी एम् के घोटाले के हो ही नहीं सकती थी

चुनाव के रिजल्ट के ट्रेंड को देखते ही इस बात पर बहन मायावती ने सवाल खड़ा कर दिए थे की ई वी एम् मशीन में गड़बड़ी है और चुनाव के अंत तक आते आते अखिलेश ने भी सी बात को बोल दिया की ई वी एम् मशीन की जांच की जाए

हालांकि यह पहली बार ऐसा नहीं हुआ है की जब बी जे पी ने इस गड़बड़ी को अंजाम दिया है इससे पहले लोकसभा चनाव में भी अब यह कहा जा रहा था की मोदी लहर आ गई है तब भी ई वी में मशीन में गड़बड़ी की बात कही गई थी लेकिन सभी ने कही न कही इस बात को स्वीकार कर लिया था की हो सकता है रिजल्ट मोदी लहर के कारण रहे हो . लेकिन अब जब मोदी लहर की कोई बात नहीं बल्कि मोदी नाम का बुलबुला फूट चुका है और मोदी एक नमबर का मूर्ख प्रधनमंत्री साबित हो चुका है जबकि अंदरूनी तौर पर कई नेता मोदी के पक्ष में नहीं है और यहाँ तक की संघ में भी यह बात चल चुकी है की अगर यु पी चुनाव हारे तो मोदी की जगह प्रकाश जावेडकर को प्रधानमन्त्री बनाया जा सकता है

इस चुनाव में लोक सभा चुनाव की तरह संघ ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी लेकिन यु पी के वोटर पैटर्न को देख यह बात हो ही नहीं सकती की मुस्लिम भी वोट दे मोदी को वो भी वो मोदी जो दंगे करवाता है खासकर मुस्लिम समुदाय के खिलाफ रहता है और रहा मोदी के विकास की बात तो यह बात तो देश के बच्चे बच्चे को समझ आ चुका है की मोदी एक नम्बर का फेंकू है और इसके शासन काल में देश पूरी दुनिया में बदनाम हुआ है और गरीबी , महंगाई बे-तहाशा बड़ी है और मोदी के पास अब कोई चारा नहीं है ऐसे में लोग मोदी की बातो का विशवास करेंगे , यह बहुत मुस्किल है क्योकि मोदी वो इंसान है ज जिसके आते ही दलित उत्पीडन बड़ा है दलित हत्याए हुई लोगो के बोलने की आजादी कह्तं हुई हिंसा बड़ी गो-आतंक बड़ा मुस्लिम के दिलो दिमाग में डर बड़ा इसे में मोदी को सपोर्ट सिर्फ एक सपना है

यु पी देश का सबसे बड़ा राज्य जहा सबसे जयादा लोकसभा की सीट है और ये सीट दिल्ली का रास्ता खलती है ऐसे में ऐसे राज्य पर दलित –ओ बी सी का कब्जा रहे यह इनम मनुवाडियो को मंजूर नहीं था इसलिए सबने मिलकर इन दलित ओ बी सी को बाहर करना अपना मकसद बनाया इसमें सभी राजनितिक दल , जो की ब्राह्मणवादी है , सारे पूंजीपति , और मीडिया संस्थान लामबंद हुए और जिसका नतीजा यही निकला जो आज हमारे सामने है

मनुवादी संघी सरकार जो इस देश के कभी नहीं हुए इनका पूरा इतिहास इस देश से गद्दारी का है ये आज देशभक्ति के नाम पर लोगो को बेवकूफ बनाने लगे लेकिन कामयाब कभी नहीं हुए

यु पी में समाजवादी और बहुजन समाजवादी पार्टी ने अपना घेरा बना रखा था ताकि ये लोग अपने लोगो का विकास कर सके और इस घेरे को तोड़ने में ये लोग कभी कामयाब नहीं हुई . मनुवादियो ने अपने इतिहास से सीख कर जैसे महिस्ससुर , रावण को मारा गया जसी तरह इनकी कहानिओ में बाली को मारा गया आज बहुजन समाज फिर इनके षड्यंत्र का शिकार हो गया है .

संघियो के ये ब्यान की इस बार सबने धर्म जाति से परे भाजपा को वोट दिया है जो कि एक कोरी बकवास है जो लोग खुद जातिवाद के जनक है पोषक है रक्षक है जो खुद दंगे करवाते है उनके मूह से ये बात शोभा नहीं देती
पांच वाले पांच सालो में इन दलित –ओ बी सी के लोगो को सबसे पहले ई वी एम् मशीन का विकल्प देखना है और इनके खिलाफ अपने प्रचार को जारी रखना है , इसके आलावा वैक्लपिक संचार वाव्य्स्था तैयार करनी है
दलित बहुजन इस हार से उदास न होकर इससे सीख ले क्योकि लोकतंत्र का यह पर्व फिर आएगा यही इसकी ख़ूबसूरती है की ये दानवो को जयादा वक्त नहीं देता और देवताओं को भी धुल चटा देता है है