.मुर्ख पत्रकार और मुर्ख बुद्धिजीवी नहीं समझ पाए ,मुलायम ने ये शब्द किस अंदाज में कहे .
| 14 Feb 2019

जन उदय : मुलायम सिंह जिस कद के नेता है उनका बौधिक स्तर क्या है वो कौनसा गेम कब खेलते है , कौनसी बात कब कहते है इसको आम आदमी आसानी से नहीं समझ सकते , मुलायम धरती पुत्र है उन्हें राजनीती विरासत में नहीं मिली है बल्कि उन्होंने मिलो पैदल चल , गाव देहातो में भूखे प्यासे रह कर इस मुकाम को हांसिल किया है , इसलिए किसी की औक्लात नहीं की मुलायम को समझ जाए .

जब कांग्रेस के अत्याचार बढ़ रहे थे २०१४ में आजकी तरह सी बी आई ई. डी का इस्तेमाल सपा और बसपा के खिलाफ हो रहा था , न्यायपालिका भी कठपुतली बनी हुई थी , उसक वक्त भी मुलायम ने कहा था मै फिर से मनमोहन जी को प्रधानमंत्री देखना चाहता हूँ .. इसके बाद रिजल्ट सबको मालूम है
क्या हुआ ..

और आज फिर से मुलायम सिंह ने वही शब्द दोहराए , तो मुर्ख भक्त , पत्रकार और बुद्धिजीवी न जाने क्या क्या अर्थ निकाल रहे है लेकिन असली अर्थ उन्हें चुनाव के बाद ही समझ आएगा