देश का दुर्भाग्य बन गया मोदी /भाजपा , २५ साल लगेंगे देश को मोदी सदमे से उबरने में
| 19 Feb 2019

जन उदय : जब से मोदी सरकार आई है तब से इस देश में कोई भी व्यक्ति शान्ति से नहीं जी रहा है हाँ पूंजीपतियो की चांदी कट रही ई , अम्बानी अडानी जैसे लोग क्या भारत रत्न क्या प्रधानमंत्री सब इनके पीछे पूँछ हिलाए घुमते है , फिर क्यों न हो इन्ही लोगो की मदद और पुरे रचे हुए षड्यंत्र से मोदी को चुनाव जिताया , अम्बानी की मीडिया टीम पूरी तरह मोदी और भाजपा के साथ रही . चलिए देखते है मोदी ने क्या क्या कारनामे किये है

१. मोदी ने पंडो और ब्राह्मणों की सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ी , आते ही ४५ करोड़ बनारस के घाट को दिए , हर कश्मीरी पंडित को १५ लाख रूपये फिर से बसने के रूप में दिए यह एक अताढ़ की सरकारी लूट थी जो मोदी ने ब्राह्मणों को अमीर करने के लिए दी . इसके विपरीत देश के कई स्थानों से विस्थापित परिवार है उनके पास रोटी खाने तक के लिए पैसे नहीं है

२. नोटबंदी जिसके चलते २०० लोग मारे गए और आजतक देश को यां नहीं पता की इससे देश को या देश के बैंको को कितना फायदा हुआ यह बड़े ही दुर्भाग्य की बात है क्योकि इसका पता लगना वो भी इस कंप्यूटर युग में बड़ा ही आसान है लेकिन जानबूझ कर मोदी सरकार ने इसको नहीं बताया क्योकि इससे कोई लाभ नहीं हुआ , हाँ जिस षड्यंत्र के तहत यह हुआ समे भी मोदी को कुछ लाभ हुआ लेकिन ई वी एम् मशीन की जालसाजी के जरिये

३. नोट्बंदी कहो या मोदी के कामकाज से , देश में तीन करोड़ लोग बेरोजगार हुए है और यह सिलसिला अबतक आरी है आने वाले समय में देश में बेरोजगारों की संख्या भारी मात्रा में बढ़ेगी जिसका बहुत दुष्प्रभाव देश पर पड़ेगा

४. उद्योग धंधे - देश के ३९ % लघु और माध्यम दर्जे के उद्योग चरमरा गए है न तो ये लोगो को रोजगार दे पा रहे है और न ही अपने माल के लिए बाजार ढून्ढ पा रहे है यानी धीरे धीरे देश की पूरी अर्थव्यवस्था चरमरा जाएगी

५. शिक्षा के क्षेत्र में देश पिछड़ता जा रहा ही बल्कि मनुसिमृति लागू करने के चक्कर में जे एन यु जैसी संस्थानों को बर्बाद किया जा रहा है , देश के गरीबो और पिछडो से शिक्षा छिनी जा रही है स्कोलरशिप बंद हो रही है स्कूल कोलेज बंद हो रही है आते ही मोदी सरकार ने ३००० स्कूल ओड़िसा में बंद कर दिए गए

६. सुरक्षा : अपने आपको बहादुर कहने वाले संघी और पाकिस्तान को सबक सिखाने वाले संघी भाजपाई आजकल पाकिस्तान के चरणों में गिरे हुए दीखते है , पिछले तीन साल में १००० हजार सैनिक और अर्धसैनिक मारे जा चुके है लेकिन मोदी आर उसके सहयोगी या तो पाकिस्तान में बिरयानी खाने जाते है या कन्यादान करने जाते है लेकिन आतंकवाद और पाकिस्तानी घुसपैठ पर कुछ नहीं बोलते
पुलवामा में जो अटैक अभी हुआ है उसने देश ही नहीं पूरी दुनिया को दहला दिया है लेकिन इसी बीच मोदी सरकार ने अपने इतिहासकार गवर्नर के जरिये २८००० हजार करोड़ का बोनस ले लिया है यानी चुनाव का इंतजाम पक्का और देश को गुमराह करने के लिए पेश कर दिए जाएंगे विकास के आंकड़े पेश कर दिए जाएंगे


७. प्रशासन एकदम लचर हो गया है भ्रस्ताचार दिन रात बढ़ता जा रहा है महंगाई गरीब की बेटी की तरह बढती जा रही है

अब देखना यह है की आखिर ऐसी कौनसी बाते हुई जो मोदी सरकार के समय में पुष्पित और पल्लवित हो रही है

१. पुलवामा से लेकर गो-आतंक और गुंडागर्दी : जब से मोदी सरकार आई है तब से देश में गो-आतंकियो के होंसले बुलंद हो गए है , गुजरात में जो हुआ उसे पूरी दुनिया ने देखा , यु पी , महाराष्ट्र , बल्कि देश के हर हिस्से से गो-आतंक की खबरे आ रही है

२. देश में यह कभी नहीं हुआ की महंगाई इतनी हो जाए की दाल रोटी खाने वाला मजदूर दाल खाने पर रईस कहलाये

३. पाकिस्तानी आतंक दिन रात बढ़ता जा रहा है लगतार सैनिक मर रहे है

४. सुरक्षा : अपने आपको बहादुर कहने वाले संघी और पाकिस्तान को सबक सिखाने वाले संघी भाजपाई आजकल पाकिस्तान के चरणों में गिरे हुए दीखते है , पिछले तीन साल में १००० हजार सैनिक और अर्धसैनिक मारे जा चुके है लेकिन मोदी आर उसके सहयोगी या तो पाकिस्तान में बिरयानी खाने जाते है या कन्यादान करने जाते है लेकिन आतंकवाद और पाकिस्तानी घुसपैठ पर कुछ नहीं बोलते

५. जातिय दंगे : देश में दलित समाज यानी लो कास्ट के साथ अत्याचार की खबरे और संख्या लागतार बढती जा रही है , गुजरता , हो या मध्य प्रदेश या उत्तर प्रदेश इन लोगो का जीना हराम हो गया है , इसका कारण सिर्फ इतना है की ये वर्ण वाव्य्स्था को नहीं मानते मनुसिमिरती को नहीं मानते यह सब अप्रत्यक्ष है इसलिए जातिय हत्यायो के कारण भी अलग है लेकिन पीछे का मकसद यही है

६. उत्तर प्रदेश में सैनिको , पुलिस वालो की हत्याए जिस तरह हो रही है जिस तरह बलात्कार हो रहे है , अपराध जितनी तेजी से बढ़ रहे है उससे लगता है की मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि यही है

देश को उलझाने के लिए कभी तीन तलाक , कभी साम्प्रदयिक दंगे चलते ही रहते है देश की असली जरूरत गरीबी , बेरोजगारी से छुट्टी है जातीय समानता है दंगे और अपराधो को रोकना है देश में शान्ति का
धारा ३७० , यूनिफार्म सिविल कोड , काला धन , ये सब कहा गए पता नहीं