प्रोफसर पर . पर मनुवादियों का हमला
| 20 Feb 2019

यह खबर मेरे दोस्तों ने मुझे 5 दिन पहले भेजी थी। बिहार के प्रतिष्ठित तिलका मांझी विश्वविद्यालय के डीन स्टूडेंट्स वेलफेयर श्री योगेंद्र महतो और डॉक्टर विलक्षण रविदास पर एबीवीपी के गुंडों ने हमला किया और उनके साथ हाथापाई की। दुर्व्यवहार की घटना के बाद डॉक्टर योगेंद्र महतो अपने ऑफिस के बाहर ही गांधीवादी तरीके से धरने पर बैठ गए।
डॉ संजय कुमार, प्रोफेसर योगेंद्र महतो या फिर डॉ विलक्षण दास पर हमला एक सामान्य हमले की बात नहीं है। यह संघर्ष चल रहा है बहुजनों का सवर्णों से सामाजिक स्पेस के लिए, ज्ञान की सत्ता के लिए, सम्मान के लिए। जनेऊवादी जानते हैं कि अगर हम इनको थोड़ा भी पीछे धकेल ले गए तो हम बहुजनों को एक लम्बे समय के लिए सामाजिक स्पेस, प्राकृतिक संसाधनों से वंचित कर पाएंगे।

मुझे पिछले 20 दिनों से देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के ओबीसी प्रोफेसर लोगों के फोन आ रहे हैं, जिसमें वे लोग अपने उत्पीड़न की बातें बताते हैं, विश्वविद्यालयों की संरचना में ज्यादातर डीन, प्रोफेसर एसोसिएट प्रोफेसर स्वर्ण बिरादरी के लोग हैं और वह हर विभाग में अपनी हेजेमिनी बनाकर रखते हैं। इसलिए ओबीसी समाज के प्रोफेसर एक बड़ी ही दबी हुई टाइप की एकेडमिक लाइफ जीते हैं सिवाय दिल्ली विश्वविद्यालय और जेएनयू के।( इन विश्वविद्यालयों में शिक्षक यूनियन होने की वजह से यहां का माहौल रिलेटिवली बेहतर और लोकतांत्रिक है) ऐसे डीन,हेड और प्रोफेसर छोटी-छोटी बातों के लिए ओबीसी समाज के अध्यापकों का उत्पीड़न करते रहते हैं उनको परेशान करते हैं, प्रमोशन में तमाम तरह की बाधाएं पैदा करने की धमकी देते रहतें है। जिससे ज्यादातर भारत के केंद्रीय विश्वविद्यालयों और राज्य के विश्वविद्यालयों में चापलूसी का वातावरण है और अकादमिक लाइफ नारकीय हो चुकी है ओबीसी समाज के शिक्षकों की। जैसा कि आपको मालूम है एस सी /एस टी समाज के मामले में उनके साथ एट्रोसिटी एक्ट का कवच है जिससे कम से कम उनका उत्पीड़न अमानवीय स्थितियों में नहीं जाता है लेकिन ओबीसी के लोग एक विचित्र स्थिति में पिस रहे हैं।

मुझे पुरुष शिक्षकों के तो फोन आ ही रहे हैं उससे कुछ कम महिला शिक्षकों के भी फोन नहीं आ रहे हैं
ओबीसी महिलाओं का इस तरह से खुलकर अपने उत्पीड़न के मामले में सामने आना अच्छा लगा।
मैं आपको बताना चाहता हूं कि हम लोगों ने (ओबीसी समाज के टीचर्स ने) एक लीगल सेल बनाया है सुप्रीम कोर्ट में, जिसमें हमारे कुछ ओबीसी समाज के वकील भाई हैं जो हमारी खुलकर बिना फी लिए लीगल मामलों में मदद करते हैं। इसलिए किसी को भारत के किसी कोने में कोई भी लीगल समस्या हो, तो आप मुझे डायरेक्ट मैसेज कर सकते हैं। मैं अपना फोन नंबर आप लोगों के साथ शेयर कर रहा हूं। अगर आपका कोई भी मामला सुप्रीम कोर्ट में है या आप कोई लीगल असिस्टेंट चाहते हैं तो आप मुझे कॉल कर सकते हैं मेरा नंबर है:9350949678.

योगेंद्र महतो जी के सम्मान से खेलने वालों के खिलाफ हम सभी कड़ी से कड़ी कार्यवाही की मांग करते हैं।
Sandeep Yadav