दलितों को कुत्ता कहने वाले जनरल वी के सिंह को जूते की माला पह्नाय्न्गे गाजिअबाद के दलित
| 24 Mar 2019

जन उदय : एक तरफ जहा भाजपा चुनाव से पहले अपना मानसिक संतुलन खो चुकी है जो की विक्षिप्ता की हद तक ठीक वैसा ही २०१४ में भी हुआ था जब भाजपा जनमत पाते ही अपना मानसिक संतुलन खो बैठी थी और इसके बाद पुरे देश में दलितों की खिलाफ उत्पीडन शुरू हो गया था . सहारनपुर , रोहित वेमुला

उना , गुजरात , गुडगाँव , सब कुछ शुरू हो गया , देश की सवा सो करोड़ जनता बड़ी बेशब्री से चुनाव का इन्तजार कर रही थी ताकि इस देश के इतिहास की सबसे भ्रष्ट सरकार को दुबारा से सडक का रास्ता दिखा सके
जनरल वी के सिंह को कहे तो ये वही है जिन्होंने दलितों की तुलना कुत्तो से की थी और वैसे भी एक सांसद रहते हुए इन्होने दलित बाहुल्य इलाको के कार्यो की जी भर कर अनदेखी की है और जी भर के भ्रस्ताचार फैलाया है , अंधा बांटे रेबडी , और अपनों अपनों को दे ये कहावत इनके साथ पूरी होती है

गाजिअबाद की दलित जनता ने ये फैसला कर लिया है जूते की मालाये पह्नाय्न्गे जनरल को और ये बात तो निश्चित है की भाजपा को वोट नहीं दिया जाएगा क्योकि भाजपा धार्मिक उन्माद और जातिवाद फैलाने वाली पार्टी है और एक सरकार के रूप में देश के लायक नहीं है