300 से अधिक विशिष्ट प्रदर्शनीकर्ता करेंगे भारत के सबसे व्याापक एनालिटिकल, लैब, फार्मा मशीनरी और संघटक ट्रेड शो में भागीदारी
| 06 Jun 2019

.अग्रणी वैश्विक फार्मा ट्रेड शो और कॉन्फ्रेन्स CPhI / P-MEC India की आयोजक UBM India ने आज घोषणा की कि PharmaLytica एक्सपो का छठा संस्करण हैदराबाद की बजाय मुम्बई में आयोजित किया जाएगा। PharmaLytica 2019, जो कि पहले दो-दिवसीय कार्यक्रम हुआ करता था, इस बार एक अधिक व्या,पक तीन-दिवसीय शो होगा, जिसे 10-12 जून, 2019 के दौरान बॉम्बे एग्जिबिशन सेंटर, मुम्बई में आयोजित किया जाएगा। इस प्रतिष्ठित फार्मा संबंधित एक्सपो में, दक्षिण भारतीय बाज़ार के काफ़ी निकट होने के साथ-साथ, पश्चिमी भारत के प्रभावशाली फार्मा हब द्वारा उपलब्ध कराए गए अवसरों का भी लाभ उठाया जाएगा।

यह एक्सपो, फार्मास्यूटिकल क्षेत्र से जुड़े लोगों को नवीनतम औद्योगिक रूझान, नवप्रवर्तन समझने और एनालिटिकल, लैबोरेटरी, मशीनरी, पैकेजिंग, फार्मा इंग्रीडिएंट्स (संघटक) तथा अन्य सहायक उद्योगों में बिजनेस करने के अवसर प्रदान करेगा। यह एक्सपो Pharmexcil, Confederation of Indian Pharmaceutical Industry (CiPi) और Indian Drug Manufacturers' Association (IDMA) आदि एसोसिएशनों द्वारा पूर्ण समर्थित है।
PharmaLytica के इस संस्करण में देश भर से 300 से भी अधिक प्रदर्शनीकर्ताओं की भागीदारी होगी, जिनमें उद्योग जगत की अनेक उल्लेखनीय कंपनियां शामिल हैं, इनमें से कई PharmaLytica में पहली बार भाग लेने आ रही हैं। कुछ प्रमुख प्रदर्शनीकर्ताओं में Elmach Packages, Shimadzu, Dockweiler AG, Micronclean, Rotarex, Bruker India Scientific, Sartorius, Schott Kaisha, Gattefosse, Perkin Elmer; Thermolab Scientific Equipments, Nicomac Cleanrooms, Mack Pharmatech, Gangwal Chemicals; Kirloskar Pneumatic, Swati Spentose, Borosil Glass Works, Accupack Engineering, NPM Machinery, Toshvin Analytical, Spinco Biotech, Scientific Research Instruments, LP Global, Bitzer India और Anton Paar तथा अन्य शामिल हैं।

लग्जमबर्ग, यूनाइटेड किंगडम, जर्मनी और चीन जैसे देशों से भागीदारी के अलावा, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, पंजाब, हरियाणा, तमिलनाडु, दिल्ली और उत्तराखंड जैसे राज्यों की मौजूदगी के साथ PharmaLytica एक सचमुच अखिल भारतीय सम्मेलन बनने के लिए तैयार है जो सभी प्रमुख औद्योगिक सेक्टरों और फार्मा केंद्रों तक पहुंचेगा। इस वर्ष विशेष पैवेलियनों में फार्मा मशीनरी व पैकेजिंग, लैब एनालिटिकल और क्लीनरूम के लिए समर्पित पैवेलियन, तथा API और एक्सीपिएंट्‌स पैवेलियन शामिल हैं। एक्सपो के अनुभव को अधिक वास्तविक रूप में साकार करने के लिए एक बहुप्रतीक्षित विशेषता के रूप में एग्जिबिटर शोकेस को शामिल किया गया है, जहां विजिटर विशिष्ट प्रस्तुतिकरण देख सकते हैं, तथा फार्मा बाज़ार क्षेत्र में नवप्रवर्तनों तथा नई तकनीकों पर आधारित बेहतरीन केस अध्ययनों की जानकारी पा सकते हैं। विशिष्ट B2B मीटिंग एरिया और कस्टमर इनसाइट लाउंज भी आयोजित किया जाएगा, जिससे क्रेताओं व विक्रेताओं को जोड़ने, कारोबारी सुगमता देने, तथा सेक्टर के प्रति आंतरिक जानकारी बढ़ाने में मदद मिलेगी। अन्य उल्लेखनीय शोकेस में भारत के शीर्षस्तरीय अकादमिक संस्थान IIT पवई, बॉम्बेल, मुम्बई द्वारा अत्याधुनिक एनालिटिकल लैब-दि सॉफिस्टिकेटेड एनालिटिकल इंस्ट्रूमेंट फैसिलिटी (SAIF) का आयोजन शामिल है। इस इकाई को मूलरूप से सन् 1976 में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार, नयी दिल्ली के सहयोग से भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बॉम्बेय में स्थापित किया गया था।

PharmaLytica के छठे संस्करण की घोषणा के अवसर पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए Mr. Yogesh Mudras, मैनेजिंग डॉयरेक्टर, UBM India ने कहा, "गत वर्षों के दौरान, PharmaLytica फार्मा उद्योग के नए उभरे वर्गों में पूरी मूल्य श्रृंखला में उत्पादों और सेवाओं के अग्रणी बाज़ारस्थल के रूप में उभरा है। इस वर्ष हमें इस एक्सपो को मुम्बई ले जाते हुए अत्यन्त प्रसन्नता है, जहां दक्षिणी बाज़ार के अलावा पश्चिमी भारत के फलते-फूलते फार्मा हब को भी लाभान्वित किया जाएगा। इसके साथ, दक्षिण में ज्ञान की साझेदारी की हमारी समृद्ध विरासत को आगे बढ़ाते हुए, मुझे यह घोषणा करते हुए भी हर्ष है कि PharmaLytica Confex को 8-9 अगस्त को हैदराबाद में अलग से लांच किया जाएगा। सामूहिक रूप से PharmaLytica ब्रांड इस सेक्टर में बदलते परिदृश्य के बारे में समझ गहरी बनाते हुए बाज़ारस्थल के रूझानों पर रणनीतिक रूप से ठोस प्रतिक्रियाएं सक्षम बनाने का प्रयास है। यह भारत में एक अद्वितीय औषधि सुरक्षा परिवेश स्थापित करने में भी एक प्रमुख भूमिका निभाएगा।"

उन्होंने आगे कहा, "क्रमिक वृद्धि के आधार पर वर्ष 2020 तक भारत, दुनिया के शीर्ष तीन फार्मास्यूटिकल बाज़ारों में शामिल होने के साथ-साथ, आकार के हिसाब से विश्वस्तर पर छठा सबसे बड़ा बाज़ार बन सकता है। नई दवाएं खोजने, R&D पर व्यय बढ़ाने, तकनीकें अपनाने, और उत्पादन गुणवत्ता सुधार की नई विधियां लागू करने के साथ फार्मा कंपनियां अथक प्रयास कर रही हैं। PharmaLytica पर हमारा फोकस, भारत के फार्मा उद्योग में बढ़ते व्यवसायों में नवप्रवर्तनों से कंपनियों को परिचित रखने के लिए है।''
वैश्विक फार्मास्यूटिकल्स सेक्टर में भारत का एक महत्त्वपूर्ण स्थान है और यह विश्वस्तर पर जेनेरिक दवाओं का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है। देश में फार्मास्यूटिकल उद्योग के वर्ष 2015-20 के दौरान 22.4 प्रतिशत CAGR के साथ बढ़ते हुए US$ 55 बिलियन का आंकड़ा पार कर जाने के अनुमान हैं। भारत के फार्मास्यूटिकल निर्यात FY18 में US$ 17.27 बिलियन के स्तर पर रहे और FY19 में (जनवरी 2019 तक) US$ 15.52बिलियन के स्तर पर पहुंच गए।
विविध आर्थिक प्रेरकों तथा सरकारी नीतियों, जैसे कि फार्मा पार्क, 100 प्रतिशत FDI की अनुमति, बायोसिमिलर्स और बायोलॉजिक्स सेक्टर को सहायक सेक्टरों के बढ़ावा, तथा उत्पादन लागतों में कमी आदि देश में इस सेक्टर की वृद्धि के प्रमुख प्रेरक कारक बने हुए हैं। सम्पूर्ण दवा उत्पादन में भारत को वैश्विक अग्रणी बनाने के लिए प्रस्तुत फार्मा विज़न 2020 ('Pharma Vision 2020') ने भी निवेशों में वृद्धि की है।
इस कार्यक्रम के बारे में अधिक जानने, तथा कार्यक्रम में मुफ्त प्रवेश हेतु रजिस्टर कराने के लिए, देखें- http://www.ubmindia.in/pharmalytica

UBM Asia के बारे में:
UBM Asia हाल ही में Informa PLC का भाग बन गई है, जो कि विश्व में एक प्रमुख B2B इन्फार्मेशन सर्विसिस ग्रुप और सबसे बड़ी B2B इवेंट्‌स ऑर्बेनाइज़र कंपनी है। एशिया में हमारी उपस्थिति के बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया http://www.ubm.com/asia देखें।
PharmaLytica के बारे में:

PharmaLyticaका आयोजन UBM द्वारा किया जाता है, जो कि जून 2018 में Informa PLC से मिलकर विश्व में एक प्रमुख B2B इन्फार्मेशन सर्विसिस ग्रुप और सबसे बड़ी B2B इवेंट्‌स ऑर्बेनाइज़र कंपनी बन गई है। भारत में हमारी उपस्थिति के बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया http://www.ubm.com/india देखें।