तीन तलाक को महिला अधिकार बताने वाली साक्षी मिश्रा के अधिकारों पर चुप क्यों है ?? Why Women Right Activist / Feminist are silent on Sakshi Mishra Episode
| 16 Jul 2019

जन उदय : ये देश महा कांटालो का देश है जिन्हें साक्षी मिश्रा की शादी से तकलीफ है वो कल तक नुसरत जहा को भाभी बना कर बड़े खुश थे जिन्हें नुसरत जहा की शादी से तकलीफ थी वो करीना कपूर को भाभी कहते न थकते थे जिन्हें टीना दाबी की शादी से तकलीफ हुई थी ,वो साक्षी मिश्रा को भाभी बना कर खुश है , महंगाई बेरोजगारी , कोई मुद्दा ही नहीं है , देश के नव रत्न जो भारत को भरपूर मात्रा में धन कमा कर देते थे भाजपा शासन में सब घाटे में आ गए और उन्हें अब बेचने की तैयारी पूरी हो चुकी है जिसे डिसइनवेस्टमेंट का नाम दिया जा रहा है .
खैर कमाल की बात यह है की इसी बीच एक लड़की साक्षी मिश्रा और एक दलित लड़का अजितेश का मुद्दा इतना गहरा गया की सारे मीडिया वाले इस कद्र अवसाद में आ गए मानो उनके घर की लड़की ने ही ऐसा कर लिया हो

इससे भी सबसे बड़ी बात यह की दिल्ली की महिला आयोग की अध्यक्ष जो की अरविन्द केजरीवाल की रिश्तेदार है बस यही योग्यता है बात बात पर हर किसी को नोटिस भेजती थी , तीन तलाक पर रोती है लेकिन साक्षी मिश्रा के लिए एक आवाज नहीं उठाई .

देश में महिला आन्दोलन वाली बाई जो रो रो कर महिला अधिकारों और मानवता का हवाला दे रही थी तीन तलाक के मामले में साक्षी के अधिकारों से बिलकुल अनजान है
सचमुच ये बहुत ही कंतालो को देश है

एक बात तो बिलकुल साफ़ है महिला आधिकारो के नाम की अपनी दूकान चलाने वाली सिर्फ और सिर्फ अपना धंधा करती है , ये किसी एक ख़ास विचारधारा या पार्टी के लिए सच में सिर्फ दलाली करती है इन्हें महिला अधिकारों से बिलकुल मतलब नहीं