ऑन लाइन एजुकेशन आज की मांग है। Rajnikant Choudhary
| 03 Sep 2019

सेंटर फॉर एजुकेशन ग्रोथ एंड रिसर्च ने सरकार द्वारा स्कूल एजुकेशन शगुन को क्रांतिकारी बताते हुए कहा कि इससे स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में मजबूती आएगी। ऑन लाइन एजुकेशन आज की मांग है।

सेंटर फॉर एजुकेशन ग्रोथ एंड रिसर्च के डायरेक्टर रविश रोशन ने कहा कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने एकीकृत ऑन लाइन जंक्शन स्कूल एजुकेशन शगुन अभूतपूर्व कदम है। आज इसकी मांग थी जिसे सरकार ने पूरा किया है। उन्होंने कहा कि सीईजीआर ने ऐसे कदम उठाने के लिए अपने सलाह भी दिए थे। सीईजीआर लगातार देश भर के विश्वविद्यालय, एजुकेशन के स्टेक होल्डर को एक मंच पर लाने के लिए कई कदम उठाए हैं। यहां तक कि पिछले दिनों 156 कॉलेज आपस में एक दूसरे से सहयोग के लिए हस्ताक्षर किए। रविश रोशन ने कहा कि निश्चिततौर पर बेहतर शिक्षा के बिना किसी राष्ट्र, समाज या परिवार का विकास नहीं हो सकता है। आज ऐसे ही वेबपोर्टल की मांग थी जिसकी पूर्ति हुई है। सीईजीआर स्कूली शिक्षा को बेहतर के लिए जल्द ही एक समिट का भी आयोजन कर रहा है। सरकार की इस कदम की हर ओर सराहना की जा रही है

गौरतलब है कि सरकार की इस योजन से 1200 केंद्रीय विद्यालयों, 600 नवोदय विद्यालयों, सीबीएससी से जुड़े 18000 स्कूलों, 30 एससीईआरटी और एनसीटीई से जुड़े 19000 संस्थानों की वेबसाइट्स को ‘स्कूल एजुकेशन शगुन’ पोर्टल से जुड़ जाएंगें। इस ऑनलाइन प्लैटफॉर्म के जरिए 15 लाख स्कूलों, 92 लाख शिक्षकों और करीब 26 करोड़ विद्यार्थियों की जानकारी ली जा सकती है। इसके जरिए योजनाओं की जानकारी लेने के साथ ही लोगों को स्कूलों से जुड़ी नई सूचनाएं भी मिलेंगी।


Rajnikant Choudhary
Sr. Executive
Centre for Education Growth and Research
Mobile: 7782964846