"यत्र नार्यस्तु पूजयंते रमन्ते तत्र देवता", उत्तर प्रदेश जहाँ नारी की पूजा होती है,
| 25 Sep 2019

Shri Rajeev Tyagi, Spokesperson, AICC addressed the media today at AICC Hdqrs.
श्री राजीव त्यागी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि  मैं आज आपके समक्ष एक ऐसे विषय पर बोलने के लिए आया हूं, जिसका संबंध भारतीय नागरिकों और उत्तर प्रदेश से विशेष रुप से है। हमारे भारतीय समाज में कहा जाता है - "यत्र नार्यस्तु पूजयंते रमन्ते तत्र देवता", अर्थात् जहाँ नारी की पूजा होती है, वहाँ देवताओं का वास होता है। लेकिन जिस तरह से उत्तर प्रदेश में अपराधों का ज्वालामुखी फट रहा है और विशेष रुप से महिलाओं के विरुद्ध जो अपराध हो रहे हैं, वो समाज के लिए और देश के लिए चिंता का विषय है। सबसे बड़ी चिंता का विषय यह है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार, योगी सरकार जिस तरह से अपराधियों को शरण दे रही है, ये शरणदाता बन गई है, वो और भी चिंता का विषय है। अपराधी आज उत्तर प्रदेश में भयमुक्त हैं, भारतीय जनता पार्टी की कार्यशैली की वजह से उत्तर प्रदेश में एक नई राजनीतिक शैली का जन्म हो गया है, जो अपराधियों के लिए हैं, जो अपराध करने के बाद ‘सरकार शरणम गच्छामि’ हो जाते हैं, जिसका मतलब अब स्पष्ट है कि आप अपराध करिए, यदि आप भारतीय जनता पार्टी के नेता हैं और अपराध करने के बाद आप सरकार की शरण में चले जाईए। सरकार की शरण में जाने के बाद अपराधी बिल्कुल भयमुक्त हो जाता है और पीड़ित पक्ष निश्चित रुप से भययुक्त हो जाता है। इसलिए हम कह सकते हैं कि अपराधियों को जिस तरह से उत्तर प्रदेश में भयमुक्त वातावरण मिल रहा है, उसका कारण बहुत स्पष्ट है कि ‘सैयां भये कोतवाल तो डर काहे का’!

स्वामी चिन्मयानंद के मामले में सैयां के रुप में और कोतवाल के रुप में निश्चित रुप से योगी जी हैं, जो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं और उन्होंने पूर्णतया चिन्मयानंद को शरण दे रखी है और उस शरण की वजह से चिन्मयानंद अस्पताल में आराम फरमा रहे हैं। मैं सरकार से सवाल पछना चाहूंगा क्या इसी तरह से बेटियों को दरिदों से बचाया जाएगा या बेटियों के सम्मान की रक्षा क्या इसी तरह से की जाएगी? 

इन सब चीजों को देखते हुए कांग्रेस पार्टी सरकार से आज 5 सवाल पूछना चाहती है। कांग्रेस पार्टी की तरफ से मैं सरकार से आज 5 सवाल पूछता हूं। 

पहला सवाल हमारा योगी सरकार और मोदी सरकार से है, जो बहुत ही स्पष्ट है कि चिन्मयानंद पर अभी तक बलात्कार का आरोप क्यों नहीं है और क्यों उस पर प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई है? इस विषय पर भारतीय जनता पार्टी अपना स्पष्टीकरण दे।

दूसरा, आज बलात्कार पीड़िता को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। बलात्कार पीड़िता अपने लिए कोर्ट से रिलीफ लेना चाहती थी, 1 बजे उसमें निर्णय होना था, लेकिन उसके बावजूद भी उसको पहले गिरफ्तार कर लिया गया। ये निश्चित रुप से दिखाता है कि सरकार बलात्कार पीड़िता के विरोध में कार्य करना चाहती है। आज बलात्कार पीड़िता यदि आज 14 दिन की न्यायिक हिरासत में है और चिन्मयानंद ए सी कमरे में आराम से लेट रहे हैं, तो मैं पूछना चाहता हूं कि क्या योगी साहब की चिन्मयानंद के साथ पूरी सांठ-गांठ है? उस सांठ-गांठ का कारण क्या है, इसको योगी जी को स्पष्ट करना चाहिए।

तीसरा सवाल योगी सरकार से है, जो बहुत ही स्पष्ट है कि वर्ष 2011 में चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप लगा था और वर्ष 2017 में सरकार बनने के बाद योगी जी ने चिन्मयानंद को बचाने के लिए पुरजोर कोशिश की और बलात्कार का मुकदमा 2011 का पूर्णतया निरस्त करने की कोशिश की। ऐसी कौन सी सांठ-गांठ थी, योगी जी की ऐसी क्या मजबूरी थी कि चिन्मयानंद पर बलात्कार का जो आरोप था, उसको खत्म करने की उन्होंने कोशिश की, इस बात का भारतीय जनता पार्टी जवाब दे?

चौथा सवाल हमारा संघ प्रमुख मोहन भागवत जी से है जो सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की बात करते हैं और भारतीय संस्कृति की बात करते हैं, संघ प्रमुख हमें ये बताएं कि चिन्मयानंद पर जो रेप का आरोप है, उसको लेकर वो खामोश क्यों हैं? उनकी खामोशी क्या सहमती है कि उत्तर प्रदेश में बलात्कार इसी तरह से होते रहने चाहिएं और भारतीय जनता पार्टी के नेता इसी तरह से बलात्कार करते रहें? 
पांचवा सवाल भारतीय जनता पार्टी से बहुत ही स्पष्ट है कि हम सभी राजनीतिक दल की जमात जितनी भी है, हम सभी संत समाज से सीखते हैं, साधु समाज से सीखते हैं, जैसे ही चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप लगा, देश के साधु समाज ने, देश के संत समाज ने चिन्मयानंद को बहिष्कृत करने का काम किया और संत समाज से निकालने का काम किया। भारतीय जनता पार्टी चिन्मयानंद को बाहर का रास्ता कब दिखाएगी, इस बात का जवाब भारतीय जनता पार्टी को देना चाहिए?
 
मैं साथ-साथ ये भी जरुर कहना चाहूंगा कि जिस तरह से उत्तर प्रदेश में श्रीमती प्रियंका गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी महिलाओं के सम्मान की सुरक्षा करने हेतु संकल्पित है, आंदोलन चलाने के लिए, हम निश्चित रुप से इसमें प्रदेश की जनता को जागरुक करके आगे बढ़ने का काम करेंगे और प्रदेश की जनता के हित में कार्य करेंगे।

चिन्मयानंद के खिलाफ पूरे साक्ष्य होने के बावजूद पुलिस द्वारा कार्यवाही न करने से संबंधित एक प्रश्न के उत्तर में श्री त्यागी ने कहा कि मैं ये कहता हूँ कि पुलिस को निष्पक्ष होना चाहिए। चिन्मयानंद के विरुद्ध भी पूरे साक्ष्य हैं, उसके विरुद्ध पुलिस क्या कार्यवाही कर रही है। कार्यवाही अगर पुलिस करती है तो दोनों तरफ की बराबर कार्यवाही होनी चाहिए। भाजपा से चिन्मयानंद की सरोकार है, क्या इसलिए पुलिस उस पर कार्यवाही नहीं कर रही है?
एक अन्य प्रश्न पर कि श्री शरद पवार पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस लगा है, कांग्रेस का क्या कहना है, श्री त्यागी ने कहा कि जैसा कि मेरा ज्ञान है, पिछले पांच साल से मोदी जी की सरकार है और पांच साल से ही वहाँ फडणवीस साहेब की सरकार है। जब चुनाव आते हैं, तब विपक्षी नेताओं के विरुद्ध ईडी को इस्तेमाल किया जाता है, सीबीआई को इस्तेमाल किया जाता है, इंकम टैक्स को इस्तेमाल किया जाता है और इन सब डिपार्टमेंट्स को लगाकर विपक्षी नेताओं का हौसला तोड़ने की कोशिश की जाती है। लेकिन मैं इतना कहना चाहता हूँ कि ये सब अब पुरातन चीजें हो चुकी हैं और मोदी सरकार को और फडणवीस सरकार को इसमें कोई सफलता नहीं मिलेगी, हाँ, ये जरुर है कि चुनाव में कांग्रेस पार्टी को और उसके सहयोगी दलों को निश्चित रुप से भाजपा के साथ-साथ ई डी, सीबीआई और इंकम टैक्स डिपार्टमेंट और साथ-साथ चुनाव आयोग के साथ भी चुनाव लड़ना होता है और इन सब संस्थाओं को भाजपा साथ लेकर चलती है, विपक्षी नेताओं की छवि को धूमिल करने के लिए।

डोनाल्ड ट्रंप द्वारा भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को ‘फादर ऑफ इंडिया’ कहे जाने से संबंधित एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री त्यागी ने कहा कि जैसा कि भारतीय एक पुरातन व्यवस्था है, इसमें भारतीय इतने ज्ञानवान हैं, भारतीय इतने विवेकशील हैं, भारतीय इतने समझदार हैं, वे जानते हैं कि उनका फादर ऑफ नेशन कौन है, और उनको बाहर का कोई नेता, विदेशी नेता यह नहीं समझा सकता कि वो किसको फादर ऑफ नेशन मानेंगे, किसको नहीं।
फादर ऑफ नेशन एक ही व्यक्ति हो सकता है, जो अहिंसा का पुजारी हो, मानवता का पुजारी हो, करुणा का पुजारी हो, प्रेम का पुजारी हो, विश्व बंधुत्व को मानता हो और उसमें महात्मा गांधी जी सबसे उपयुक्त हैं और हम सबके फादर ऑफ नेशन हैं। वो भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में पूजनीय हैं।
एक अन्य प्रश्न पर कि क्या नरेन्द्र मोदी जी अहिंसा के पुजारी नहीं है, श्री त्यागी ने कहा कि मैं इतना ही कहना चाहता हूँ कि बाहर के किसी नेता की किसी टिप्पणी पर कांग्रेस पार्टी बहुत स्पष्ट रुप रखती है कि भारतीय समाज बहुत समझदार है, वो अपने निर्णय लेना जानता है।
एक अन्य प्रश्न पर कि MOS PMO ने कहा है कि अगर कांग्रेस को आपत्ति है तो वो ट्रंप से जाकर डिबेट करे, क्या कहेंगे, श्री त्यागी ने कहा कि कांग्रेस को आपत्ति है तो सिर्फ इतनी आपत्ति है कि देश से बेरोजगारी खत्म हो, देश से किसानों की समस्या खत्म हो और देश से अन्य बहुत सारी महिलाओं की सुरक्षा की जो समस्या है, वो खत्म होनी चाहिए।
सोशल मीडिया के दुरुपयोग को रोकने को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा केन्द्र सरकार से तीन हफ्तों में मांगी गई रिपोर्ट से संबंधित एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री त्यागी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जो रिपोर्ट मांगी है, संज्ञान लिया है सोशल मीडिया को लेकर, कांग्रेस पार्टी उसका स्वागत करती है और कांग्रेस पार्टी ये मानती है कि विगत पांच सालों में जिस तरह से सरकार ने देश के इतिहास के साथ, सरकार से मतलब मेरा यहाँ भाजपा से है और भाजपा के नेताओं ने और भाजपा की जो फौज है, ट्रौल्स की, उस पूरी फौज ने देश की राजनीतिक व्यवस्था, देश के इतिहास के साथ, विपक्षी नेताओं के चरित्रहनन को लेकर सोशल मीडिया पर जो चीजें परोसी हैं, वो दुर्भाग्यपूर्ण है और हम सरकार से अपील करते हैं कि सरकार को निश्चित रुप से इस पर एक रणनीति बनानी चाहिए और सुप्रीम कोर्ट के प्रश्नों का उत्तर देना चाहिए। हमारा ये आरोप है सरकार पर कि वह सोशल मीडिया के दुष्प्रचार से राजनीतिक फायदा उठाती है, शायद इसी कारण इस बारे में कोई कार्यवाही करने में उसका रवैया ढुलमुल रहा है। वह इस पर किसी भी तरह के अंकुश लगाने से बचती रही है। यह जग जाहिर है कि प्रधानमंत्री जी स्वयं गाली-गलौच की भाषा का उपयोग करने वालों का अनुसरण (follow) करते हैं।

हमने ये भी देखा है कि किस तरह से सोशल मीडिया में बहुत सी अफवाहों की वजह से मोब लिंचिंग हुई, बच्चा चोरी की घटनाओं में बहुत सारे लोगों को मारा गया, तो हिंदुस्तान में इन सब चीजों की कोई जगह नहीं है और हिंसा का सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं होता।
Sd/-
(Vineet Punia)
Secretary
Communication Deptt,
AICC