ऐसे हार सकती है आम आदमी पार्टी दिल्ली में
| 15 Jan 2020

.जन उदय ; वैसे तो दिल्ली सरकार यानी आम आदमी पार्टी अपनी जीत की हुंकार भर चुकी है और यह कहते कहते नहीं थकती कि आम आदमी पार्टी पिछला रिकॉर्ड थोड़ेगी लेकिन ऐसा लगता है आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी खुद ही टूटे हुए है

दिल्ली के एक सर्वे में पाया गया है कि कुछ सीमा तक दिल्ली के लोग आम आदमी से खुश है लेकिन वही दूसरी तरफ दिल्ली के लोग आम आदमी पार्टी के एम् एल ए से खुश नहीं है क्योकि इन्होने ऐसा कोई ख़ास काम दिल्ली के लिए नहीं किया जो इन्होने किया वो सरकार की योजनाये है

एम् एल ए अपने अपने इलाको में कुछ काम नहीं करवा पाए जो भी काम हुआ वो पिछली सरकार का ही काम हुआ है बिजली , पानी सिविर , सड़क सब कुछ वैसा ही है जो पिछली सरकार ने किया था

लेकिन फिर भी दिल्ली के लोग कहते है कि जिस तरह भाजपा लूट मचा रही अहि देश में गरीबी बेरोजगारी बढती जा रही देश में हिंसा का माहोल है और इन सब चीजो के लिए भाजपा सरकार जिम्मेवार है अगर इन सब को देखा जाए तो आम आदमी पार्टी ही सही है

लेकिन नागरिकता कानून पर चुप्पी दिखा कर आम आदमी ने यह साबित किया है कहनी न कही अंदर ही अंदर आम आदमी पार्टी भगवा पसंद है और भाजपा को ही समर्थन देती है

ऐसे में आम आदमी पार्टी ने चाहे प्रत्याशी बदल दिए है लेकिन बावजूद इसके केजरीवाल को हार का सामना देख पढ़ सकता है और आम आदमी की सीट काफी कम होंगी