यूनिवर्सल अस्पताल द्वारा जीवन रक्षक ट्रेनिंग
| 06 Feb 2020



यूनिवर्सल अस्पताल  तथा  यूनिवर्सल केयर के माध्यम से आपातकालीन स्थिति   के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए  तथा जीवन रक्षक   BLS ( BASIC LIFE SUPPORT )  प्रशिक्षण  के लिए छात्रों और आम लोगो के लिए ट्रेनिंग प्रात : 09 :00  से साय 08 :00 बजे  तक 34वे  सूरजकुंड मेला मे  सिखाई  जाती है। 
एक संवाददाता सम्मेलन मे ,अस्पताल के प्रबंध  निदेशक शैलेश जैन ने कहा की इस कार्यक्रम मे  लगभग 1,00000 लोगो को मुफ्त प्रशिक्षिण  प्रदान  किया गया है ।

''मरीजों को निकटतम  अस्पताल ले जाने से पहले आपातकाल के समय किया गया इलाज मरीज की  जान बचाने में मदद करेगा। 

डॉ शैलेश जैन ने कहा की प्रशिक्षण  कार्यक्रम को अपनी सामाजिक जिम्मेदारी के हिस्से के रूप मे आयोजित किया जा रहा है प्राप्त प्रशिक्षिण मे  एक प्रमाण पत्र दिया जायेगा।  पहले से ही पुलिस और अग्निशमन  कर्मियों को  BLS ( BASIC LIFE SUPPORT )मे प्रशिक्षित  किया गया था।  डॉ रीती अग्रवाल , डॉ गजेंदर और डॉ मनीष उपस्थित थे। 

डॉ शैलेश  जैन ने कहा की अगर मरीज की साँस रुक गई  हो तो किस तरीके से मरीज को कृत्रिम साँस दी जा सकती है। ट्रैंनिंग पुलिस तथा अफसरो को बेसिक लाइफ सपोर्ट ट्रेनिंग देने की बीड़ा उठाया है। अगर मरीज बेहोश है तो उसको इस तरीके से इस अवस्था के दौरान मरीज की सहायता की जा सकती है। इस तकनीक को आसानी से सीखा जा सकता है। अगर आपदा के वक़्त इस तकनीक की  सहायता ले तो मरीज को नया जीवन दान दिया जा सकता है यह ट्रैंनिंग हर घंटे मे आयोजित की जा रही है।  डॉ शैलेश जैन के अनुसार एक चरण मे 25 -30 लोगो को ट्रैंनिंग दी जा रही है।  

डॉ शैलेश जैन ने वताया की अगर  इस तकनीक को लोग अगर सीख ले तो 60 फीसद मरीज की जान बचाई जा सकती है।  यह तकनीक यूनिवर्सल अस्पताल में भी सिखाई जाती है। यूनिवर्सल हॉस्पिटल इसका सर्टिफिकेट भी उपलब्ध करता है।


यूनिवर्सल  केयर एम्बुलेंस के  द्वारा  हिंदुस्तान मे कही भी कभी भी एम्बुलेंस 8800128128  पर फ़ोन कर कर मंगाई जा सकती है 

1. मरीज को उठाने की कौशीश करें -
जब आप किसी व्यक्ति को अचानक आपात स्थिति में मिलते हैं, तो आपको पीड़ित को जागने करने का प्रयास करना चाहिए। यदि पीड़ित साँस नहीं ले रहा है, तो तत्काल एम्बुलेंस कॉल (पैन इंडिया के लिए )8800128128 से संपर्क करें।

2. छाती दवाने शुरू करें -
अपनी पहली इंटरलॉकिंग उंगलियों से छाती पर अपना हाथ रखें और फिर 100 पम्प की दर से लगभग दो इंच तक छाती को नीचे दबाएं। छाती को कम से कम 100 मिनट प्रति मिनट धकेलना शुरू करें याद रखें, आपको इस दर पर एक वार मे 30 संपीड़न करने की आवश्यकता है।

3. बचाव शुरू करें -
मरीज के वायुमार्ग को खोलने के लिए सिर-झुकाव, ठोड़ी-लिफ्ट विधि का उपयोग करें। अब मरीज की नाक को दबाए और अपने मुंह से अपने मुंह पर लगाओ। यदि उपलब्ध हो, तो आप एक सीपीआर मुखौटा का उपयोग कर सकते हैं।
छाती को बनाए रखने के लिए मरीज को पर्याप्त श्वास दे। सांस ना आने तक एक बार फिर से बचाव की प्रक्रिया को दोहराएं।

4. छाती दवना और बचाव श्वास दोहराएँ -
30 वार छाती दवना इसी तरह आप पहले भी कर चुके थे और आपको पहले की प्रक्रिया की तरह ही दो सांस दीजिए हैं।