88 नोबेल पुरस्कार विजेताओं और वैश्विक नेताओं ने COVID-19 के दौर में दुनिया भर के बच्चों के संरक्षण के लिए $1 ट्रिलियन का आह्‌वान किया
| 22 May 2020

नई दिल्ली, 19 मई, 2020 /PRNewswire/ -- Laureates and Leaders for Children के भाग के रूप में आज 88 नोबेल पुरस्कार विजेताओं और वैश्विक नेताओं ने एक वक्तव्य जारी किया, जिसमें दुनिया भर की सरकारों से एकजुट होने और लॉकडाउन और उसके बाद की परिस्थितियों में दुनिया भर के बच्चों को प्राथमिकता देने का आह्‌वान किया गया।

Nobel Peace पुरस्कार से सम्मानित, Kailash Satyarthi, जिन्होंने बाल श्रम, बंधुआ मजदूरी और मानव तस्करी के खिलाफ दशकों तक अथक संघर्ष किया है, द्वारा 2014 में स्थापित Laureates and Leaders for Children विश्व के सबसे असुरक्षित बच्चों द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियां रेखांकित करता है और समाधानों के लिए पैरवी करता है।

Kailash Satyarthi ने कहा कि, "हम Laureates and Leaders for Children, यह मांग करते हैं कि इस गंभीर संकट के दौर में तथा इसके बाद, सरकारें सबसे सीमांत और असुरक्षित बच्चों को भूलें नहीं। हमें अभी कदम उठाना होगा वरना एक पूरी पीढ़ी के नुकसान का जोखिम है।"

वक्तव्य का सारांश:

COVID-19 ने हमारी दुनिया में पहले से मौजूद असमानताओं को उजागर कर दिया है तथा और गंभीर बना दिया है। वायरस, विश्व की अधिकांश जनसंख्या पर लगाए गए प्रतिबंध, तथा उसके बाद की स्थितियां, सबसे असुरक्षित लोगों को एकदम तबाह करने वाला असर उत्पन्न करेंगी।
महामारी की सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातस्थिति, बच्चों के उत्पीड़न को गंभीर बनाएगी। वायरस से बचने के लिए घरों में कैद बच्चों के लिए यौन दुव्यर्वहार तथा घरेलू हिंसा का जोखिम अधिक है। प्रतिबंध उठाए जाने के साथ बच्चों की तस्करी होगी, वे अपने परिवार चलाने का बोझ उठाने के लिए स्कूल छोड़ने और बाल श्रमिक बनने पर मज़बूर होंगे।
अगर हमारी पूरी दुनिया, सबसे सीमांत बच्चों और उनके परिवारों को उनका उचित हिस्सा – COVID-19 प्रतिक्रिया का 20% भाग सबसे निर्धन 20% लोगों के लिए– एक ही बार में दे दे तो इसके परिणाम कायापलट करने वाले होंगे। एक ट्रिलियन डॉलर से वित्तपोषण करते हुए सभी बकाया UN और चैरिटी COVID-19 अपीलें पूरी की जाएं, तथा स्वास्थ्य, जल, और स्वच्छता तथा शिक्षा से संबंधित SDG पूरे करने के लिए दो वर्ष के वैश्विक अंतराल का वित्तपोषण किया जाए। दस मिलियन से अधिक लोगों की प्राणरक्षा होगी।

हम G20 के नेताओं का आह्‌वान करते हैं कि वे ऐसे लोगों के लिए अपनी सीमाओं से परे जाकर अतिरिक्त कदम उठाएं जिनको समन्वित अंतर्राष्ट्रीय मदद की तत्काल ज़रूरत है। हम G20 के सभी नेताओं से मौजूदा वैश्विक स्वास्थ्य वचनबद्धताओं का पालन करने का भी आह्‌वान करते हैं।