जानिये नए शोध से महिलाओं में क्यों तनाव आ गया है ::: दर्दनाक माहवारी में भी से हृदयघात का खतरा
| 30 Mar 2016

जन उदय समवाददाता : न्यूयार्क, 30 मार्च जिन महिलाओं को भारी मात्रा में और दर्दनाक माहवारी का सामना करना पड़ता है, उन महिलाओं में हृदयघात के जोखिम की संभावना तीन गुना अधिक होती है।

एक शोध में यह जानकारी सामने आई है। भारी और पीड़ादायक महावारी एंडोमेट्रियोसिस विकार के कारण होती है। इस विकार की वजह से गर्भाशय के ऊतकों की असामान्य वृद्धि होने लगती है।

अमेरिका के मैसाचुसेट्स राज्य की राजधानी बोस्टन स्थित ब्रिंघम एंड विमेन हॉस्पिटल से इस अध्ययन की मुख्य लेखक फैन मू ने बताया, एंडोमेट्रियोसिस विकार वाली महिलाओं को इसकी जानकारी होनी चाहिए कि उन्हें एंडोमेट्रियोसिस विकार रहित महिलाओं की तुलना में हृदय रोग का उच्च खतरा होता है।

खासकर युवा अवस्था में यह जोखिम अधिक होता है। इस शोध के लिए वैज्ञानिकों ने नर्सेस हेल्थ स्टडी के दूसरे भाग के एक लाख 16 हजार 430 महिलाओं के आंकड़ों का आकलन किया था। ऑपरेशन के द्वारा 11 हजार 903 महिलाओं के परीक्षण के आखिरी चरण में इस विकार की पहचान की गई थी। 20 सालों के परीक्षण में शोधार्थियों ने पाया कि एंडोमेट्रियोसिस विकार रहित महिलाओं की तुलना में

एंडोमेट्रियोसिस विकार वाली महिलाओं में 1.52 प्रतिशत अधिक हृदयघात और 1.91 प्रतिशत एंजीना और सीने के दर्द का जोखिम होता है।

शोधार्थियों का कहना है कि एंडोमेट्रियोसिस के ऑपरेशन से भी आंशिक रूप से हृदयघात का जोखिम बढ़ सकता है। यह शोध सर्कुलेशन कार्डियोवस्कुलर क्वालिटी एंड आउटकम्स पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।